समभाव

समभाव   रखनेवाले   को  कभी,
तनाव   -  रक्तचाप  नहीं  होता है,
सुखी - स्वस्थ  रहते  हैं आजीवन,
औ  ताप  -  संताप  नहीं  होता है,
ताप    -    संताप   नहीं   होता है, 
सदा   हर्षित  - हँसमुख    रहते हैं,
कहते 'कमलाकर'हैं दुःख-सुख में,
समत्व   -  समभाव   रखते   हैं।।
      
कवि कमलाकर त्रिपाठी.


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image