समभाव

समभाव   रखनेवाले   को  कभी,
तनाव   -  रक्तचाप  नहीं  होता है,
सुखी - स्वस्थ  रहते  हैं आजीवन,
औ  ताप  -  संताप  नहीं  होता है,
ताप    -    संताप   नहीं   होता है, 
सदा   हर्षित  - हँसमुख    रहते हैं,
कहते 'कमलाकर'हैं दुःख-सुख में,
समत्व   -  समभाव   रखते   हैं।।
      
कवि कमलाकर त्रिपाठी.


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
हास्य कविता
Image