बढती आबादी भ्रष्टाचार की तरह



श्रीकांत यादव 

हमारी बढती आबादी ने, 

हर मुद्दे पर हमको घेरा है |

प्रमुख समस्या पानी है, 

पानी ने ही पानी फेरा है ||


नदी किनारे हम पसर गये, 

नदियों ने किनारा तोडा है |

हमने अपनी सुबिधा देखी,

सुबिधाओं ने मुख मोडा है ||


उत्तराखंड कश्मीर की बाढें, 

देश को अभी सताती हैं |

शीघ्र बढती आबादी रोको, 

बर्बादी सबको चिढाती है ||


नदी घाटी या वादी हो हम, 

सडकों खेतों तक तो फैले हैं |

करती करुण क्रंदना मातृभूमिं, 

होते हरित आंचल इसके मैले हैं ||


जल जलधार तक नहीं छोडा, 

तालाब पोखर सब लील गए |

मैदान और खलिहान की बातें, 

इसे छूटे अब कितने मील गए ||


भारत में जनसंख्या बढ़ रही,

बढ़ते भ्रष्टाचार की तरह |

हमारे संसाधन ऐसे घट रहे,

घटते शिष्टाचार की तरह ||


वक्त है अपनी आबादी पर, 

सरकार को कुछ करना होगा |

नियम कानून तो चाहिए ही, 

सबको उस पर चलना होगा ||

श्रीकांत यादव 

(प्रवक्ता हिंदी)

खोड़ा गाजियाबाद।

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
बेटी को अभिमान बनाओ
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image