बस सितम की कहानी ही रह जाएगी

 


दीपक शुक्ल 'चिराग'

अपना किरदार शिद्दत से निभा लें हम सब ।

वरना एक दिन कहानी ही रह जाएगी।।

कुछ खामोशियां कुछ शिकायतें।

दूसरों की जुबानी ही रह जाएगी।।

अपनी हम कुछ कहें अपनी तुम कुछ कहो।

एक दुजे को हम सब भी समझें सुने।।

वक्त जालिम है अब तो यहां दोस्तों।

बस सितम की कहानी ही रह जाएगी।।


🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏


दीपक शुक्ल 'चिराग'

संस्थापक

काव्यांजलि "एक अनूठा आरंभ"

विश्व मंच

🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image