ख़ौफ़ का मंजर


ये ख़ौफ़ का भटका सा मंजर है।

सूर्य की छाया जैसे चाँद ढाल रहा है।

इस जीवन मृत्यु के भटके पथित पर,

उदासी हर मोड़ पर एक मृत्यु देती है।


अब शमसान व कबिर्स्तन की सड़के,

जैसे दोस्ती का साथ अर्थी को मोह लेता।

हर रोज हजारों चिताओ का ये लम्हा ,

एक प्यारी सी जिंदगी क्यों काटने को दौड़ती ?


जीवन हमें मिला है ख़ौफ़ के अंधियारों को ,

संघर्षो के तप से भरने का परन्तु ,

ये ख़ौफ़ ,ये उदासी का हर वो अंश 

हमारे अपनो को हमसे ही छीन रहा है।

 

छोटी सी कलम ....©राज श्रीवास्तव ( नई दिल्ली )

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image