दोस्ती


      डॉ मधुबाला सिन्हा

दोस्तों की महफ़िल में मैं

दोस्त तलाशती रह गयी

दिया दगा दोस्तों ने

ख़ुद को सम्भालती रह गयी

न विछड़ेंगे दोस्तो हमने

वादा तो  कर लिया

उन वादों में मैं अपना

तक़दीर बनाती रह गयी

कैसे कैसे लिखे मुकद्दर

कैसी दी गुस्ताख़ी है

कैसे फँसकर द्वंदों में मैं

खुद को ही सवांरती रह गयी

वादे वफ़ा धोखा दिया

दोस्ती का रंग खुला

नकली को असली बताया

कैसे तुझे अपना कहती रह गयी

जरा बताओ मुझको हमदम

किया खता क्या मैंने था

ताउम्र जीने मरने की संग

कसमें मैं खाती रह गयी

काँपा नहीं तेरा कलेजा

जब वादाफ़रोशी तूने की

लम्हा लम्हा मरती रही

फिर भी वफ़ा करती रह गयी

     ★★★★★★

डॉ मधुबाला सिन्हा

मोतिहारी,चम्पारण

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image