कजलियां



सुश्री इंदु सिंह

हरी-भरी कजलियां

आई लेकर नई-नई खुशियां

फसल हो स्वस्थ-निरोगी

अच्छे बीजों की देती ये गवाहियां 

.....

भारत के अनुभवी किसान

यूँ तो होते नहीं वैज्ञानिक मगर,

प्रकृति की प्रयोगशाला में 

खुले आसमान तले

करते रहते वे शोध नित नये

कैसे हो खेतों में भरपूर फसल

बोकर कुछ बीज अलग

उगाते फिर सांकेतिक कजलियां

लेकर आती जो खुशियां

हरी-भरी कजलियां 

.....

नागपंचमी का शुभ मुहूर्त

लेकर आता बुआई की घड़ी

टोकरी में लाते सब खेत की मिट्टी

बिखेर देते उसमें थोड़ा-सा गेहूं 

बड़े जतन से उनकी 

देखभाल किया करते कृषक

दूध से सींचकर खाद-पानी देकर

प्यार से बड़ी करते कजलियां

लेकर आती जो खुशियां

हरी-भरी कजलियां

.....

श्रावणी पूर्णिमा तक 

उनका बड़ा ध्यान रखा जाता है

राखी का त्योहार मनाकर 

अगले दिन हाथ में लिए यह सौगात

घर-घर में इसे बांटा जाता है

बड़ो के पांव छू उनसे आशीष लेकर

कानों में प्रेम खोंसा जाता है

पर्व बन जाती यह कजलियां

लेकर आती जो खुशियां

हरी-भरी कजलियां 

----------◆◆◆


*© ® सुश्री इंदु सिंह*

स्वतंत्र लेखिका

नरसिंहपुर (म.प्र.)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image