आंखें छलक रही हैं


किरण झा 

किसी ने मुझको कहां है समझा

सोच के आंखें छलक रही हैं

हसरतों में खोकर ये दुनिया

राहें अपनी भटक रहीं हैं


खुली हैं पलकें थमी हैं सांसें

धड़कनें अब चटक रही हैं

कैसी दो राहें हैं जिंदगी की

चालें सबकी बहक रही हैं


नफरतों का है दौर आया

हर एक आशा सुबक रही है

ना जाने कैसा मुकाम है ये

इंसानियत भी सिसक रही है


कैसी दो राहें हैं जिंदगी की

चालें सबकी बहक रही हैं

सबब उदासी का कैसा आया

"किरण"उम्मीद भी पुलक रही हैं

किरण झा

 (रांची, झारखंड)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image