आंखें छलक रही हैं


किरण झा 

किसी ने मुझको कहां है समझा

सोच के आंखें छलक रही हैं

हसरतों में खोकर ये दुनिया

राहें अपनी भटक रहीं हैं


खुली हैं पलकें थमी हैं सांसें

धड़कनें अब चटक रही हैं

कैसी दो राहें हैं जिंदगी की

चालें सबकी बहक रही हैं


नफरतों का है दौर आया

हर एक आशा सुबक रही है

ना जाने कैसा मुकाम है ये

इंसानियत भी सिसक रही है


कैसी दो राहें हैं जिंदगी की

चालें सबकी बहक रही हैं

सबब उदासी का कैसा आया

"किरण"उम्मीद भी पुलक रही हैं

किरण झा

 (रांची, झारखंड)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image