सियासत



सपना चन्द्रा 

कल मेरे हक की बात करता 

उसे आज भला क्यूं इंकार है 

मेरे लिए जीत की बात करता

उसके रहते भला क्यूं हार है

अभी तो वह सरकार है

सत्तासीन होकर भी वह

कहता बहुत लाचार है

वह करे भी तो कैसे करे

ये उसका ही परिवार है

अभी तो वह सरकार है

आवाज बनने की खातिर

विपक्ष का उसे इंतजार है

सिर्फ उम्मीद रख कर ही

हमें जीना बारंबार है

अभी तो वह सरकार है

लड़ाई  खूब लड़ी जा रही है

सदियों से चली आ रही है

जनता के आगे फेंक बोटी

समझता क्या विचार है

अभी तो वह सरकार है

हमेशा की तरह ना तुम बदलोगे, 

ना हमारी हालत बदलेगी ।

देखती रह जाएगी जनता

कैसे बदलती दरबार है

अभी तो वह सरकार है.

पक्ष और विपक्ष के बीच

पिसती कुर्सी व्यभिचार है

सारी कमान है जिसके हाथ

कहने को बस सरकार है

अभी तो वह सरकार है ।

✍️

सपना चन्द्रा 

कहलगाँव भागलपुर बिहार

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image