पद

 


महातम मिश्र 'गौतम' गोरखपुरी

अब तो डमरू बजे शैलानी

पर्वत ऊपर किला आपका, हे बाबा बर्फानी।

लुढ़क रहें है राह पेै रोड़े, चीन करे मनमानी।

मति सुधार दो दुर्जन जन की, हे शिव अवघड़दानी।

बेधर्मी पड़ोस से खाँसे, जाति पाति का ध्यानी।

मंदिर तोड़े नारि रुलाये, बोले कपटी बानी।

मानवता अति शर्मशार है, दुखी भक्त प्रिय प्रानी।

एक जाति पर जुल्मी साया, कितनी है बेमानी।

सावन का उल्लास वहाँ पर, हर लेता अभिमानी।

जय हो बाबा महाकाल की, सोमनाथ सहिदानी।

अमिय चुराकर भाग रहे जो, उनको मिले न पानी।

गौतम का विश्वास अडिग है, शिव पूजा विज्ञानी।

धर्म कर्म अरु मर्म निराला, आर्य सभ्यता सानी।।

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
सफलता क्या है ?
Image
श्री लल्लन जी ब्रह्मचारी इंटर कॉलेज भरतपुर अंबेडकरनगर का रिजल्ट रहा शत प्रतिशत
Image