प्यार कोई खेल नहीं (गज़ल)



डाःमलय तिवारी

है कठिन इश्क़ की राहों से गुजरना यारों। 

प्यार को खेल समझ करके न करना यारों। 

वैसे तो इसका आगाज खुशनुमा है, बहुत, 

पर नहीं ठीक है अन्जाम, सम्हलना यारों।। 

शम्में उल्फत में जले दिल न पतिगों की तरह, 

हुश्न की गलियों से, बच बचके निकलना यारों। 

बुझ नहीं सकती, लगी आग दिल में पानी से, 

लहू के कतरे हिफाजत से  छिड़कना  यारों  ।।

ख़िजा के साथ ही रहना, बहार आने तक  ,

फूल की तरह ही गुलशन में महकना यारों ।।

"मलय"समेंटकर ग़म सारे ज़माने भर का, 

फ़लक पर चाँद सितारों के चमकना यारों।। 

      डाःमलय तिवारी

 बदलापुर     जौनपुर (उ, प्र)

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
सफलता क्या है ?
Image
श्री लल्लन जी ब्रह्मचारी इंटर कॉलेज भरतपुर अंबेडकरनगर का रिजल्ट रहा शत प्रतिशत
Image