उधेड़-बुन


सोच में हूं

उधेड़-बुन में हूं

कुछ समझ नहीं पा रही

बस सोचती ही जा रही

ना कभी हासिल हुआ

ना कभी गुम हुआ

ना वो ख्वाब था

ना कभी हकीकत हुआ

पर हां.....

इक खुबसूरत रिश्तों की बुनियाद था


ऐसा कभी कभी ही होता है

कमी भी होती है

और सुकून भरा पल भी होता है


आंसू भी होते हैं और मुस्कान भी होती है

राहत भी मिलता है,तुफान भी मिलता है


निश्चिंतता की छतरी ओढ़ने की कोशिश में

कश्मकश की बारिश भींगो जाती है

ये वक्त है ना 

बस धीरे धीरे बीती जाती है


ना जाने कौन सा पल आपको तन्हा कर दे

महफिल के कैद से रिहा कर दे


सुबह आती है आती रहेगी,

रात के आने से परेशान नहीं होता

ओढ़ लेने से अच्छाई का लबादा

"किरण" हर कोई महान नहीं होता

किरण झा ✍🏻 स्वरचित

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image