अँधेरा



डॉ पंकजवासिनी

काल साक्षात्  देखो खड़ा! 

चुग रहा नित मनुज का दाना!! 


धैर्य संबल सब छोड़ चले! 

जब साँसों का मुश्किल बाना!! 


संबंध सारे पडे़ बौने! 

सबने अपना स्वार्थ देखा!! 


रिश्ते सारे हैं लहुलुहान! 

स्नेह की पड़ी क्षीण रेखा!! 


चहुँओर अँधेरा छा रहा! 

मनुज मन कितना घबरा रहा!! 


चहुँओर अंँधेरा है तो क्या! 

आशा दीप जलाए रखना!! 


तम के नग को ढहना ही है! 

धीर से मन बहलाय रखना!! 



Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
क्षितिज के उस पार •••(कविता)
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image