अँधेरा



डॉ पंकजवासिनी

काल साक्षात्  देखो खड़ा! 

चुग रहा नित मनुज का दाना!! 


धैर्य संबल सब छोड़ चले! 

जब साँसों का मुश्किल बाना!! 


संबंध सारे पडे़ बौने! 

सबने अपना स्वार्थ देखा!! 


रिश्ते सारे हैं लहुलुहान! 

स्नेह की पड़ी क्षीण रेखा!! 


चहुँओर अँधेरा छा रहा! 

मनुज मन कितना घबरा रहा!! 


चहुँओर अंँधेरा है तो क्या! 

आशा दीप जलाए रखना!! 


तम के नग को ढहना ही है! 

धीर से मन बहलाय रखना!! 



Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image