हे !जन्मभूमिं तेरा कोटिश: वंदन


श्रीकांत यादव 

उस महा पावन जन्म स्थली से, 

अब दूर का ही नाता शेष रहा |

नवजात शैशव जहां आँखें खोलीं, 

मात्र स्मृतियों का अवशेष रहा ||


संदली सुवासित सोंधी मिट्टी पर, 

डगमग शैशव ने जहां पांव रखा |

वही स्मृतियों में संचित है अब,

जहां जीवन ने पहला स्वाद चखा ||


अधम क्षुधातुर पेट के कारण, 

परिस्थितियां कुछ अनिवार्य बनीं |

पावन जन्मभूमिं से विरक्ति की शर्तें, 

कुछ कारण वश स्वीकार्य घनी ||


सुमधुर स्मृतियां व्याकुल कर जातीं, 

कोमल अन्त:स्थल हिला जातीं |

तालाब पोखरों के सुखद स्वप्न, 

अखाड़े की याद दिला जातीं ||


जिसके ओर-छोर से बचपन परिचित ,

जिसकी स्मृतियाँ अजब अनोखी हैं |

जहां शहरों सा धमाल न धोखा था, 

जहाँ स्वर्गिक आनंद और शोखी हैं ||


अमराईयों की वह कलरव कूक, 

जहां बौरों की मदमत्त तैलाक्त गंध |

तैरती जलमुर्गियों का अबाध झुँड ,

बिखरता आक्षि का अप्रतिम सुगंध ||


नर्म हरी रेशमी कालीन फसलों की, 

बिछती जहां क्षितिज के छोरों तक |

मेडों को सजाती हरी कोमल घासें, 

भरते रस रस गन्ने के पोरों तक ||


महमह दिशा गमकाती सरसों, 

अलसी मसूर मटर मदमाती |

आम्र बौर जब हवा में घुलता, 

कटहल की सुगंध झुमा जाती ||


लाल कोपलों से गदराई डालें, 

उत्साह ऋतु बसंत भर जाता |

हर्षित मन हो पुलकित काया, 

टपके महुआ रस छलकाता ||


बाल मंडली बसंत पंचमी पर्व पर, 

अपने रीति अभिनंदन करती थी |

घास फूस सूखी पत्तियाँ ले लेकर, 

स्थापित होलिका का वंदन करती थी ||


होली दहन की हुल्लड़बाजी में ,

अर्थ अनर्थ की चिंता किसको |

सूखा मिला जो होलिका में डाला,

कोई रोक न पाता था जिसको ||


गांव के नायक अधिनायक न थे, 

वहां सिक्का अपना ही चलता था |

खेल कुश्ती में जो भिड़ जाता, 

केवल अपना हाथ ही मलता था ||


ऊंची कूद हो या लंबी छलांग, 

क्रिकेट कबड्डी या फुटबॉल सही |

गदा भांज बल जौहर दिखलाता ,

कुश्ती का प्रतिद्वंद्वी न मिला कहीं ||


गांव मड़ार के हम उम्र सभी, 

मित्रता के बंधन में बंधे रहे |

मदद मित्रों का मूल मंत्र था, 

शिक्षा के निमित्त थे सधे रहे ||


अगल बगल कई गावों में भी, 

अपने घनिष्ट मित्र थे हर कहीं |

श्रीकांत सतीश और विजेंद्र से ,

लोग कहा करते थे मित्र नहीं ||


तेरा अब अविचल अहवात रहे, 

स्व ग्राम देवता करें रंजन |

तेरे वैभव की अमरत्व कल्पना,

अश्रु अभिसिंचित अभिनंदन ||


तेरी मिट्टी की खुशबू बनी रहे,

तेरा कण कण बना रहे चंदन |

सब विजेन्द्र सिंह सा मित्र बनें,

हे जन्मभूमि तेरा कोटिश: वंदन ||


( विजेंद्र सिंह को समर्पित)


श्रीकांत यादव 

(प्रवक्ता हिंदी)

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image