बची रहे

(प्रार्थना)



नीलम राकेश


बच्चे की नादानी 

बची रहे ।

दादी नानी की कहानी 

बची रहे ।

गांव घर की हरियाली 

बची रहे ।


खेलने कूदने की आजादी 

बची रहे ।

कागज की नाव पुरानी 

बची रहे ।

खेल पुराने ,गुड़िया की शादी 

बची रहे ।


यादों की गठरी पुरानी 

बची रहे ।

तेरे मेरे बचपन की कहानी 

बची रहे ।


नीलम राकेश

लखनऊ

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image