बची रहे

(प्रार्थना)



नीलम राकेश


बच्चे की नादानी 

बची रहे ।

दादी नानी की कहानी 

बची रहे ।

गांव घर की हरियाली 

बची रहे ।


खेलने कूदने की आजादी 

बची रहे ।

कागज की नाव पुरानी 

बची रहे ।

खेल पुराने ,गुड़िया की शादी 

बची रहे ।


यादों की गठरी पुरानी 

बची रहे ।

तेरे मेरे बचपन की कहानी 

बची रहे ।


नीलम राकेश

लखनऊ

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image