बची रहे

(प्रार्थना)



नीलम राकेश


बच्चे की नादानी 

बची रहे ।

दादी नानी की कहानी 

बची रहे ।

गांव घर की हरियाली 

बची रहे ।


खेलने कूदने की आजादी 

बची रहे ।

कागज की नाव पुरानी 

बची रहे ।

खेल पुराने ,गुड़िया की शादी 

बची रहे ।


यादों की गठरी पुरानी 

बची रहे ।

तेरे मेरे बचपन की कहानी 

बची रहे ।


नीलम राकेश

लखनऊ

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
बेटी को अभिमान बनाओ
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image