दृष्टि विस्तार

 


वीणा गुप्त 

गीत को गुनगुनाने  का, 

कोई आधार तो  होगा। 

जो हर ले उर संताप सब,

कोई उद्गार तो  होगा। 


बैठा रहेगा  कब तलक

दायरों में  घिरा यूं ही

बाहर निकल ,झांक तो 

दृष्टि  विस्तार  तो  होगा। 


तट पर बैठा गिने लहरें

गहराई जानेगा कैसे? 

गोता लगाकर देख तो,

ये सागर पार तो होगा ।


लगेगी ठोकर, गिरेगा।

पड़ेंगे पैर में  छाले। 

सहलाने मत बैठ,चला चल

गति संचार तो  होगा। 


अंधेरा  है  बहुत माना,

सो गई आस की किरन।

जुगनू पकड़ ले एक कोई, 

ज्योति  पसार तो  होगा। 


छल आहत कर रहा,

झूठ  जाल बुन रहा। 

दे उतार नकाब सब, 

सच उजियार तो होगा। 


जम गईं  हैं संवेदना,

मन पाषाण बन गए ।

तू नेह-ताप तो छुआ,

मंजर बहार का  होगा। 


भुला तेरा और मेरा

सब उसका ही पसारा है। 

सुख दुःख सब यहीं पर हैं।

यहीं उद्धार  भी  होगा। 


धरती अंबर मिल रहे गले

उजली सुबह, शाम ढले। 

रंगों  की गगरी छलकती

क्षितिज गुलज़ार तो होगा।


वीणा गुप्त 

नई दिल्ली 

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image