गज़ल

 


राजेश "तन्हा"

अपने हाथों से जिसे बनाया है उसे मिटाऊँ कैसे। 

मैं  उनकी   जिंदगी   का   तमाशा   बनाऊँ  कैसे।। 


खुद से भी बढकर चाहा है मैंने उसको, 

बिना पागल हुये भला उसे बुलाऊँ कैसे।


वो रकीबों के संग जश्न मनाने में लगी है, 

और मै सोचता रहता हूँ उसके लिये खुशियाँ लाऊँ कैसे।


वो कहती भी थी अक्सर कि खुदगर्ज़ है वो, 

उस जैसी खुदगर्ज़ी मैं खुद में लाऊँ कैसे। 


ए खुदा तू ही बता कोई रास्ता उसे भुलाने का, 

मेरी रूह की हिस्सेदार है वो मैं भुलाऊँ कैसे। 


दो पल के लिये ही चाहे हसीँ दी लव पे उसने, 

वो यादगार पल आख़िर मैं भुलाऊँ कैसे। 


वो भटकी हुई है राह अभी पता है मुझे , 

मैं सोच रहा हूँ बिना ठोकर लगे उसे वापिस लाऊँ कैसे।


राजेश "तन्हा"

रतनाल, बिश्नाह, जम्मू जे के यू टी-181132

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image