पेड़ लगाएँ पर्यावरण सुधारें पेड़ बचाएँ जीवन सवाँरें



प्रमिला श्री 'तिवारी'

1.

करते हो अपराध, पेड़  क्यों  काटा करते ।

निज कर्मों का आज,मनुज फल भोगा करते।।

समझो कुछ इंसान,  बड़ा   करते  हैवानी।

देते  वृक्ष   महान,     हमें   ये दाना पानी ।।

2.

मचा है हाहाकार,     प्राणवायु का जैसे ।

काट  रहे  हो पेड़,    बचेगा जीवन कैसे।।

देते पेड़ महान, हवा जल शीतल सबको।

पेड़ो को मत काट,यही कहना है हमको।।

********************************

दोहे --

1.

प्राणवायु का है मचा, कैसा  हाहाकार।

हमको पर्यावरण का, करना चलो सुधार।।

2.

व्याकुल पंछी हो रहे ,करते नीड़ तलाश ।

बहुत तीक्ष्ण अति धूप है,बिन बादल आकाश ।।

3.

सब पेड़ों को काट कर, होता है व्यापार ।

वन प्राणी भयभीत हैं,उन्हें नीड़ दरकार ।।

4.

सभागार शीतल सुलभ,अति उत्तम व्यापार ।

कभी वृक्ष की छाँव तल, होते थे -सुविचार ।।

प्रमिला श्री 'तिवारी'

धनबाद(झारखण्ड)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image