पेड़ लगाएँ पर्यावरण सुधारें पेड़ बचाएँ जीवन सवाँरें



प्रमिला श्री 'तिवारी'

1.

करते हो अपराध, पेड़  क्यों  काटा करते ।

निज कर्मों का आज,मनुज फल भोगा करते।।

समझो कुछ इंसान,  बड़ा   करते  हैवानी।

देते  वृक्ष   महान,     हमें   ये दाना पानी ।।

2.

मचा है हाहाकार,     प्राणवायु का जैसे ।

काट  रहे  हो पेड़,    बचेगा जीवन कैसे।।

देते पेड़ महान, हवा जल शीतल सबको।

पेड़ो को मत काट,यही कहना है हमको।।

********************************

दोहे --

1.

प्राणवायु का है मचा, कैसा  हाहाकार।

हमको पर्यावरण का, करना चलो सुधार।।

2.

व्याकुल पंछी हो रहे ,करते नीड़ तलाश ।

बहुत तीक्ष्ण अति धूप है,बिन बादल आकाश ।।

3.

सब पेड़ों को काट कर, होता है व्यापार ।

वन प्राणी भयभीत हैं,उन्हें नीड़ दरकार ।।

4.

सभागार शीतल सुलभ,अति उत्तम व्यापार ।

कभी वृक्ष की छाँव तल, होते थे -सुविचार ।।

प्रमिला श्री 'तिवारी'

धनबाद(झारखण्ड)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image