'एहसास -ए-महरूम न बन'

 


अनुपम चतुर्वेदी


कमअक्ल  होना  कोई  गुनाह  नहीं,

पर   एहसास - ए - महरूम  न  बन।


तुम्हें  क्या  पता ? कैसे  बीतते  हैं लम्हे,

किसी की बद्दुआओं का मजमून न बन।


तशरीफ़ फरमा तू बड़े शौक से जालिम,

किसी की महफ़िल में ख़ाक-ए-शुकून न बन

   

रूह  से  नाता  है बहुत, पाक मुहब्बत का ,

जिस्मानी रिश्तों का पैगाम-ए-कारकुन न बन।


तेरे खुतूत को अब भी सम्हाल के रक्खा है,

दीदार-ए-यार का तौफीक-ए-जुनून न बन। 


एहतराम से जिन्दगी बसर हो साहिब

 नापाक इरादों का,खामखां हुजूम न बन ।


अनुपम चतुर्वेदी, सन्त कबीर नगर, उ०प्र०

रचना स्वरचित, सर्वाधिकार सुरक्षित

मोबाइल नं ०-9936167676

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image