गरम गरम रोटी

प्रीति ताम्रकार

गरम गरम रोटियां

माँ तुम्हारे हाथ की 


तवे से उतरी रोटी 

बहुत याद आती है


अब मैं सबको खिलाती हूँ

गरम गरम रोटियां

पर मेरे खाने के समय पर

ठंडी हो जाती है 

वही गरम गरम रोटियां


पर जब भी आती हूँ मायके

तुम और भाभी खिलाती हो 

बड़ी प्यार-मनुहार से मुझे 

तवे से उतरी रोटियां


कई वर्ष बीते,

अब तो चाह भी नही रही

तवे की उतरी रोटी की


पर यह क्या हुआ अचानक आज

मुझे ससुराल में भी मिलने लगी 

गरमा गरम रोटियां


हाँ माँ, अब बड़ी हो रही हैं न मेरी बेटियां

इसीलिए परोसती हैं मुझे वो

मेरी पसंद की गरम गरम

तवे से उतरी रोटियां

          ✍️प्रीति ताम्रकार

                जबलपुर

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image