आज आंसा भी आसमां लगते हैं



दीपिका चौहान

आज आंसा भी आसमां लगते हैं,

दुःख से भरे दरिये किनारे लगा करते हैं।

बैठ जाता है मन यह सोंच सोंचकर,

घुटन में सांस भी लेना हो जाता है आरमा।

जो थे कभी अपने लही वही करीबी लगा करते हैं,

नज़दीकियां जो निभाते थे, कभी वही पराये लगते हैं।

आज आंसा भी आसमां लगते हैं,

दुःख से भरे दरिये किनारे लगा करते हैं।

मंजिल ये मेरे धुंधलाते नज़र आते हैं,

दिन नहीं गुजरते कमी में जिन्दगी गुजरने की बात किया करते हैं।

आज आंसा भी आसमां लगते हैं,

दुःख से भरे दरिये किनारे लगा करते हैं।।


दीपिका चौहान,

जशपुर छत्तीसगढ़।।

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image