यादों के कोमल अंकुर



ज्ञानीचोर

बिखर रहे माला के मोती,

जीवन से लाली छिटक रही।

विहंग कलरव शिशु बाल कल्पना,

अब कठोर धरातल पटक रही।


पीड़ा है जीवन की जड़ता,

सुख भी है बिखर जाने में।

मिटने का दौर आखिरी अब,

नहीं!मजा कहाँ सुख पाने में।


भीगी-भीगी पलकों का सुख,

सिसकी अंधेरी सूनी रातों में।

मिटकर उठना फिर मिटना,

सुख भरा अकेली बातों में।


हैं!क्यों कहूँ ये अश्रु नयन के,

यादों के कोमल अंकुर को।

मिटकर फिर चुपचाप फूटते,

मचल पड़ते फिर मिटने को। 

ज्ञानीचोर


शोधार्थी व कवि साहित्यकार


मु.पो. रघुनाथगढ़, सीकर,राजस्थान।


मो. 9001321438

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image