मैं .....


डा0 रजनी रंजन 

कईबार वार किया उसने

आत्मबल को कमजोर  किया

फिर साहस ने उठाया

और धैर्य ने सहनशक्ति दी

चोट पर चोट

वार पर वार

पराकाष्ठा थी अब

सहनशक्ति टूट गयी,

 पर साहस अब भी था

मन के कोने में कहीं 

भले ही दुबका हुआ,

उठ खड़ा हुआ

आओ अब!

मजबूत कंधे पर 

नाना जिम्मेदारी निभाती हूँ 

घर बाहर दोनों  संभालती हूँ 

तुम क्या हो?

तुम्हें भी संभाल लूंगी

सारे भेद मिटा दूंगी 

पुरुषार्थ पर नारीत्व का बल

कौन नहीं  जानता!

मैं  हूँ तो तुम हो

मैं  रहूँगी तो तुम्हारी परछाईं रहेगी

वरना मेरे खत्म होते ही

सब खत्म हो जाएगा ।


डा0 रजनी रंजन 

घाटशिला, झारखंड ।

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image