अवधपति!आना होगा

 


डॉ अवधेश कुमार अवध 

राम नाम आधार, अन्य क्षणभंगुर नश्वर।

इनसे ही भव पार, सभी होते हैं तट पर।।

इधर उधर की बात न सोचो और न भटको।

पगबाधा को देख न मद -माया में अटको।।


कर्म मर्म से शुद्ध, धर्म की राहें पकड़ो।

गुरु सज्जन गुणवान, मिलें तो सादर जकड़ो।।

बहुत हो चुकी देर, न समय गँवाना होगा।

अवध न जाए हार, अवधपति! आना होगा।।


डॉ अवधेश कुमार अवध 

8787573644

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image