पिता

प्रो(डॉ)शरद नारायण खरे

जिसका जीवन संघर्षों की,प्रखर एक गाथा है।

सचमुच में उस पिता के आगे,झुक जाता माथा है।।


संतानों के जीवन में जो,

बिखराता उजियारा

रक्षक बनकर पहरा देता,

दूर करे अँधियारा

वह रचना करता संतति की,जनक कहाता है।

सचमुच में उस पिता के आगे,झुक जाता माथा है।।


निज सुख त्याग,काम करता है,

करता गृह की रचना

हर मुश्किल से जो भिड़ जाता,

करता सुख की सृजना

माता जैसा अभिनंदन पर,जो ना पाता है।

सचमुच में उस पिता के आगे,झुक जाता माथा है।।


सारा जीवन,सूरज जैसा,

हरदम जो है तपता

सकल दिव्यता दे जो गृह को,

कर्ममाल है जपता

निज संतति के जीवनपथ पर, फूल बिछाता है।

 सचमुच में उस पिता के आगे,झुक जाता माथा है।।

                  -प्रो(डॉ)शरद नारायण खरे

                            मंडला(मप्र)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
क्षितिज के उस पार •••(कविता)
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image