!!मेरा हृदय उद्गार !!

 


गिरिराज पांडे 

मैं तो गांव में ही रहकर 

गांव से हर दम प्यार किया

 प्रकृति प्रदत्त हवा जो मिलती

 उसी में हरदम सांस लिया 

नहीं तीब्रतम चाल मै देखी

 चकाचौंध से दूर रहा

 बांग्ला सुंदर नहीं मेरा 

यहा कच्चा सा मकान रहा

 ना देखा पार्क का कोना 

फूलों की क्यारी देखी है

 घर के चारों ओर महकती

 मैंने फुलवारी देखी है

 देखा नहीं चमकती सड़कें

 अंधेरी गलियां देखी हैं 

देखे नहीं शहर के कांटे

 गांव की कलियां देखी हैं 

सुखद हमेशा बीता जीवन

 सपनों का संसार मिला

 किसी के हिस्से शहर में आए

मेरे हिस्से में गांव मिला

 बिल्डिंग की छाया नहीं मिली

 वृक्षों का हरदम छांव मिला

  नहीं भटकना अब शहरों में

 सुंदर सा मुझे गांव मिला


 गिरिराज पांडे 

वीर मऊ 

प्रतापगढ़

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
सफलता क्या है ?
Image
श्री लल्लन जी ब्रह्मचारी इंटर कॉलेज भरतपुर अंबेडकरनगर का रिजल्ट रहा शत प्रतिशत
Image