पिता जब तुम थे

 

अमित कुमार बिजनौरी

पिता जब तुम थे ।

महकाया खुशियों से संसार 

मेरे जीवन के तुम्हीं 

असली थे अवतार ।।


पिता तुम्हारे बोल 

गूँज रहे चितवन में 

संस्कार दिये और

उपकार किये जीवन में 

सुंदर सलोना दिया तुमने

जीवन को आधार ।

मेरे जीवन के तुम्हीं.....

धन्य धन्य है पिता साक्षात 

ईश्वर का रूप 

पिता का जैसे जग में 

कोई नहीं अनूप 

समय समय पर डाट

पिलाई दिया एतबार 

मेरे जीवन के तुम्हीं......

नेम व्रत पूजा और

प्रभु से माँगी खैर 

सदा यही सिखाया

 नहीं करना तुम बैर

पिता जी की शिक्षाओं

का जीवन में निखार 

मेरे जीवन के तुम्हीं ....


@अमित कुमार बिजनौरी

स्योहारा बिजनौर

उत्तर प्रदेश

स्वरचित

मौलिक

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image