यादें





डॉ. राजेश कुमार शर्मा पुरोहित

अतीत की यादें हमें रुलाती है

वो बरसात की रातें सताती है


ख्वाब में रोज वो चली आती है

उसकी बातें हमें याद आती है


कोई तो दिल को समझा सके

ये धड़कनों को क्यों बढ़ाती है


रुके नही बहते आँख के आँसू

वो हमें याद कर कर गिराती है


खून के खत लिखे थे तुमने जो

पढ़कर उन्हें वो आँसू बहाती है


डॉ. राजेश कुमार शर्मा पुरोहित

कवि,साहित्यकार

भवानीमंडी

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image