मरीचिका के गीत

 सुनीता द्विवेदी

मरीचिका के गीत 

बीता हुआ अतीत 

तड़ित जैसी सखि री 

यह कपटी की प्रीत 


रहती क्षण दो क्षण

पल में जाती बीत 

रस ले गया भौरा

सुना वेणु के गीत

अखियाँ बहती नदी

अधर विरह संगीत

वचन कल परसों का

बरस गए है  बीत

रस लूटने आते

सखि भ्रमर नहीं मीत 

सखि (री) भ्रमर नहीं मीत


🌻 सुनीता द्विवेदी🌻

🌻कानपुर उत्तर प्रदेश🌻

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image