मन के मांझी आज तो

 

सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

तूफानों की ओर चलेंगे मन के मांझी आज तो।

नदी में उल्टी धार चलेंगे मन धारा को थाम तो।।

बहुत डर लिए हालातों से, बस अब और नहीं।

डरकर भागने वालों का कहीं उद्धार नहीं।

आज झंझावात से टक्कर लेकर दम लेंगे,

शमा उठाई है हमनें आने ना देंगे शाम तो।।


तूफानों की ओर चलेंगे मन के मांझी आज तो।

नदी में उल्टी धार चलेंगे मन धारा को थाम तो।।


हरेक महाप्रभंजन से टकरा जाएँगे हम। 

पुनीतम स्वर्ग धरती पर लेकर आएँगे हम। 

अभी तो लहरों के विपरीत भिड़ना हे हमको, 

भयाक्रांत होकर चलने वाला कोई ना काम तो।। 


तूफानों की ओर चलेंगे मन के मांझी आज तो।

नदी में उल्टी धार चलेंगे मन धारा को थाम तो।।


सभी जंजीरें काटेंगे हिम्मत के हाथ हम।

ऊँचाई पर बात करेंगे हवा के साथ हम।

तेरा समय माना कठिन है मनवा धीरज धर,

यह वक्त भी कट जाएगा राम का नाम है धाम तो।। 


तूफानों की ओर चलेंगे मन के मांझी आज तो।

नदी में उल्टी धार चलेंगे मन धारा को थाम तो।।


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

इन्दौर मध्यप्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
हास्य कविता
Image