शिकायत एक अनाथ की

श्वेता अरोड़ा

जरा फुरसत में मिलना मुझसे ऐ जिंदगी, 

तुझसे बरसों का हिसाब लेना है! 

सितम तो बहुत ढाए तूने बेदर्द दिल से, 

महरूम उसको रखा एक बेशकीमती आँचल से,

हर एक उस सितम का वाजिब जवाब लेना है! 

खुशियों का गुलदस्ता जो तूने छीना है क्यू कांटे राहों में बिछाए है, 

ना खिला ना मुस्कराया उसका बचपन, ना मिली जो गोद बचपन में, उस झूले का हिसाब लेना है! 

तभी तो कहती हूँ जरा फुरसत में मिलना मुझसे ऐ जिंदगी  तुझसे बरसों का हिसाब लेना है! 

                                   

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image