शिकायत एक अनाथ की

श्वेता अरोड़ा

जरा फुरसत में मिलना मुझसे ऐ जिंदगी, 

तुझसे बरसों का हिसाब लेना है! 

सितम तो बहुत ढाए तूने बेदर्द दिल से, 

महरूम उसको रखा एक बेशकीमती आँचल से,

हर एक उस सितम का वाजिब जवाब लेना है! 

खुशियों का गुलदस्ता जो तूने छीना है क्यू कांटे राहों में बिछाए है, 

ना खिला ना मुस्कराया उसका बचपन, ना मिली जो गोद बचपन में, उस झूले का हिसाब लेना है! 

तभी तो कहती हूँ जरा फुरसत में मिलना मुझसे ऐ जिंदगी  तुझसे बरसों का हिसाब लेना है! 

                                   

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image