शिकायत एक अनाथ की

श्वेता अरोड़ा

जरा फुरसत में मिलना मुझसे ऐ जिंदगी, 

तुझसे बरसों का हिसाब लेना है! 

सितम तो बहुत ढाए तूने बेदर्द दिल से, 

महरूम उसको रखा एक बेशकीमती आँचल से,

हर एक उस सितम का वाजिब जवाब लेना है! 

खुशियों का गुलदस्ता जो तूने छीना है क्यू कांटे राहों में बिछाए है, 

ना खिला ना मुस्कराया उसका बचपन, ना मिली जो गोद बचपन में, उस झूले का हिसाब लेना है! 

तभी तो कहती हूँ जरा फुरसत में मिलना मुझसे ऐ जिंदगी  तुझसे बरसों का हिसाब लेना है! 

                                   

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
क्योंकि मैं बेटी थी
Image