ग़ज़ल



विद्या भूषण मिश्र "भूषण"

~~~~~~~~~~~~~~~~~

आजकल सबको पड़ोसी से भी डर लगता है, 

कोई वीरान सा हर एक शहर लगता है!!

~~~~~

रोज बरसों से जो हमराह बन के चलता था, 

अब वही शख़्स क्यों अनजान बशर लगता है!!

~~~~~

पेड़ पीपल का जिसकी छाँव में हम खेले थे, 

वक्त़ की मार से वो ठूँठा शज़र लगता है!! 

~~~~~

वादियाँ हो गयीं वीरान गूँजती चीखें, 

ये मेरे मुल्क़ के दुश्मन का कहर लगता है!!

~~~~~

फूल खिलते थे, महकती थी जहाँ की धरती,

वो चमन आज हमें जैसे सहर लगता है!! 

~~~~~

है बड़ा बेशरम अपना ये पडो़सी यारो, 

नाम के उल्टा इसका काम मगर लगता है!! 

~~~~~

पार सरहद के एक मुल्क है ऐसा "भूषण" , 

रोज़ बाजा़र-ए-दहशत का उधर लगता है!!

------------------------------

*_ विद्या भूषण मिश्र "भूषण"_ बलिया, उत्तरप्रदेश*

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image