तुम मामा ही अच्छे थे

 

सुनीता जौहरी

तुम मामा ही अच्छे थे 

जब हम छोटे बच्चे थे

मैं नाक तुम्हारा ढूंढा करती थी 

अब मिला ,तब मिला

 क्या तुम्हें आंख मिला?

 मैं मां से यही कहा करती थी

तुम हमें ताकतें रहते थे 

हम तुम्हें निहारा करते थे

तुम मामा ही अच्छे थे

 जब हम छोटे बच्चे थे ।


एक बुढ़िया वहां पर रहती थी 

जो धान कुटा करती थी

जब हम ऊपर तकते थे

तब वै नीचे देखती थी

मैं जहां- जहां भी जाती थी

तुम पीछे-पीछे आते थे

मैं तुमसे भागा करती थी 

तुम छोड़कर कब जातें थे

नानी के घर तुम मुझसे ही 

पहले हो आया करते थे

तुम मामा ही अच्छे थे

 जब हम छोटे बच्चे थे ।

____________________

सुनीता जौहरी

वाराणसी उत्तर प्रदेश

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
सफलता क्या है ?
Image
श्री लल्लन जी ब्रह्मचारी इंटर कॉलेज भरतपुर अंबेडकरनगर का रिजल्ट रहा शत प्रतिशत
Image