परिणय-वर्षगाँठ की बधाई

 डॉ पंकजवासिनी

हाथों में तेरा हाथ रहे! 

आशीष प्रभु का माथ रहे!! 

जीत लेंगे फिर हर जंग! 

जीवन राह में चल संग!! 

कहते ये दोनों प्रेमी युगल! 

होकर प्रेम में अति विकल!! 

कामना इनकी यह पूर्ण हो! 

विपदाएँ पग तल चूर्ण हों!! 

जोड़ी शाश्वत रहे 💞

परिणय की वर्षगाँठ  की अशेष मंगलकामनाएंँ! 💐💐


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image