अंतिम दिन

 

कमल राठौर साहिल

सुबह उठो तो मुस्कुरा कर उठो

सूरज जैसी ऊर्जा के साथ उठो

खिलते फूल जैसे उठो


बहती नदियों की अटखेलियाँ 

जैसी मोज़ की तरह उठो

परिंदों की उम्मीदों जैसे उठो


ओर उस दिन को

जी भर कर जियो

सारा रस निचोड़ कर

उस दिन का आनन्द लो

उसी दिन को अंतिम दिन

समझ कर उल्लास से जिओ


एक दिन ऐसा आएगा

जब सूरज भी उगेगा

फूल भी खिलेंगे

परिंदों की उम्मीदें भी होगी

झरनों की उमंग भी होगी

मगर तुम नही होंगे

तुम नही उठोगे

काली रात तुम्हारे 

प्राण हर लेगी


कमल राठौर साहिल

शिवपुर , मध्यप्रदेश

9685907895

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image