मुझसे मिलने मत आना



डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज"

गली-गली सन्नाटा फैला , तुम कैसे ? हो बतलाना ।

प्यार अगर सच्चा करते हो, मुझसे मिलने मत आना ।।

राहें आज अजनबी सी हैं,चलने में मन घबराये ।

सूरज ओढ़े राग तसल्ली, चंद्र सखा सँग भरमाये ।।

पीपल नीचे छाया में भी,बैठत है दिल अब जाना ।

प्यार अगर सच्चा करते हो,मुझसे मिलने मत आना ।।

बुझे हुए हैं अरमानों के,दीप जलें सहते गम हैं ।

घर के सभी सदस्यों के भी,गहने इतराते कम हैं ।।

निशा तड़पती तम ही तम जग,दिवस भूल घर खत छाना ।

प्यार अगर सच्चा करते हो,मुझसे मिलने मत आना ।।

कीमत सुखद पता चलती है,रिश्ते नातेदारों की ।

अपनी धुन में गँवा दिये जो,नये-नये किरदारों की ।।

समय बहुत अलबेला पंछी ,हँसते-रोते पथ लाना ।

प्यार अगर सच्चा करते हो,मुझसे मिलने मत आना ।।

बेशक परेशान होगे प्रिय ,निजी बहाने दीखे हो ।

खड़े -खड़े चलने वालों से,गीत पुराने सीखे हो ।।

"अनुज"लिखावट भूल गया सब,मीत किताबें रट गाना ।

प्यार अगर सच्चा करते हो,मुझसे मिलने मत आना ।।

डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज"

अलीगढ़ , उत्तर प्रदेश ।

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image