हाइकु

नीरज कुमार सिंह

मां ही , मंदिर

मां ही पूजा , इस सा

  कौन है दूजा।


 रक्षक है मां

सेवक जन्मदात्री 

पालक भी मां।


मां ढाल सी

रहे इर्द गिर्द वो 

लाली ,लाल की।




मां त्याग है

मां से ही जीवन के

अनुराग है।



मां हर्ष है

 संग हो तो मंगल

पूरे वर्ष है।

 

मां मुस्कान है

स्नेह की लगती है

मां दुकान है।



Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
हास्य कविता
Image