अँधेरे की चीखे

आलिया खान.....

ये अँधेरे की चीखे सुनकर,

मन मेरा कुछ घबराया है ll


चारों और मचा हुआ है कौहरम,

ये कैसा आया जमाना है ll


लाशों के ऊपर लाशें सुलग रही है,

अपनों ने भी ना हाथ लगाया है ll


सांसे ऐसे टूट रही है जैसे पेड़ों

से सूखे पत्ते झड़ जाते है ll


ये कैसी लाचारी है एक को लीन कर के

आते है तो दूसरे की तैयारी है ll


आलिया खान.....

दिल्ली.......



पेपर,

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image