ओ माँ ओ माँ


अपनी माँ के लिए चंद लाईने समर्पित करती हूँ


बिम्मी कुँवर सिहं

ओ माँ ओ माँ


कि मेरी सूरत में तेरी ही मूरत, 

मेरी तू रचईता हर पल की जरूरत।


ओ माँ

ओ माँ


कि मैं जब रोती हूँ, खबर तुझे हो जाती,

कि मैं जब खिलती हूँ, तू मचल जाती ।


मेरी हर खुशियोँ का ख्याल तुम रखती हो,

सब बच्चों के दुख को झट से सोखती हो।


ओ माँ

ओ माँ


मेरे बचपन से ही तूने सुने कितने ताने,

अडिग ही रही सदा तू मुझकों ही माने।


मुझे लिखने के लिए सदा प्रेरित करती,

सुनाऊ कुछ भी शाबाशी सुरभित करती।


ओ माँ 

ओ माँ


छोटी छोटी बातो की मेरी साझेदारी तुम संग,

रचती, कसती, ढालती मुझे अपने तुम रंग ।


सभी के दुख में तू हरदम भगीरथी बन जाती,

अक्सर इसी बात पे तेरी मालिक से ठन जाती ।


ओ माँ

ओ माँ


दुआ मागूं प्रभू से तुम्हारे जीवन की,

बागबान तू बनी रहे अपने उपवन की।


ओ माँ

ओ माँ


बिम्मी कुँवर सिहं

हिन्दी भोजपुरी लेखिका

सिलीगुड़ी

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image