जय गुरुदेव

एक कुण्डली 



रोशनी किरण

            चलता फिरता तीर्थ ये , नारायण है नाम ।

            भक्तों की रक्षा करें , गुरुवर का है काम ।।

            गुरुवर का है काम , अजब है लीला उनकी ।

            पितृ हैं भगवनदीन , राजरानी मां जिनकी ।।

          कहे " किरण " समझाय, यही हैं पालन करता ।

        दुख सबके मिट जाय , करें सुख चलता _ फिरता ।।

                     ।।  ।।

              

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
बेटी को अभिमान बनाओ
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image