जग बहुत सुन्दर है

 

सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

गम का गहरा समंदर है,

ये जग बहुत ही सुन्दर है।


रंग बिरंगे रंगों से है रंगा

ये कितना हसीन मंजर है।


दुख सुख से भरा सागर,

समाया सब कुछ अंदर है।


कोई समझ नहीं पाया हैं,

खुदा का बनाया मंदिर है।


दुनिया तो है आनी जानी,

यहाँ चलता आया लंगर है।


खुशियों से भरा खजाना,

मनसीरत मिलते खंजर है।

********************

सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image