राम जब खडा़ है

 



मुश्किलों ने कहा पाला पड़ा है

हम डरें क्यों अपने पीछे राम जब खड़ा है 

कुंदन बनता सोना अग्नि में जब है तपता 

पहुंचे चोटी पर दे इम्तिहान सब कड़ा है

मिलती मंजिल चल कर हर बूंद भरती गागर

इक बीज नन्हा नित पा पानी वृक्ष अब बडा़ है

हिम्मत  ना हार आंधियों से तू लड़ सकता है

लेके हौसला साथ भगवान जब खड़ा है 

वचन दिया गीता में निभाने आएंगे वो

मोहन बढ़ाते सौ कदम तू दो जब बढा़ है

करते कराते भगवन तेरा नाम कर रहे 

उनके बल से ही तो यह जगत सब खड़ा है


 सुनीता द्विवेदी

कानपुर उत्तर प्रदेश 

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image