राम जब खडा़ है

 



मुश्किलों ने कहा पाला पड़ा है

हम डरें क्यों अपने पीछे राम जब खड़ा है 

कुंदन बनता सोना अग्नि में जब है तपता 

पहुंचे चोटी पर दे इम्तिहान सब कड़ा है

मिलती मंजिल चल कर हर बूंद भरती गागर

इक बीज नन्हा नित पा पानी वृक्ष अब बडा़ है

हिम्मत  ना हार आंधियों से तू लड़ सकता है

लेके हौसला साथ भगवान जब खड़ा है 

वचन दिया गीता में निभाने आएंगे वो

मोहन बढ़ाते सौ कदम तू दो जब बढा़ है

करते कराते भगवन तेरा नाम कर रहे 

उनके बल से ही तो यह जगत सब खड़ा है


 सुनीता द्विवेदी

कानपुर उत्तर प्रदेश 

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image