जेहन में चरूई

 


विद्या शंकर विद्यार्थी 

समय से डेराइल आदमी के बहुत दिना तक भय पीछा करेला। गाँव में लइका हल्ला कइलन स कि डाभ (सड़क के नाम) पर हाथी आवता। ई बात पतरेंगा के कान में पर गइल । अब का रहे पतरेंगा सड़कल अपना भुसहुल कोठा पर कब चढ़ गइलन । घर के केहू देखबो आ ना जानल गोड़ दबा पतरेंगा के भय भुसहुल कोठा धरा दिहले बा। 

हर हांके ओला चभुकी के केकरो जरूरत परल त मांगे आइल। आ पतरेंगा के भइया से कहलस - 

' आपन चभुकिया द ना साँझ के ले लिहऽ ।'

' हम नइखीं धइले, हमार भइयवा पतरेंगवा धइले बा, डाभ देने गइल बा ओकरा के आवे द त ले जइहऽ ।'

' ए भइया, ऊ डाभ देने काहे के जइहें,घरवे में होइहें, उनका के बोलावऽ ना, अकाज होता, हमरा। ' 

' आरे भाई तोहरा अकाज होता त ओकरा के हम घर में लुकववले बानी आ बहाना करत बानी कि तोहार काम अकाज होखे। ' 

' ना भइया ना, बाकि तोहरा ई पता नइखे नू कि डाभ देने हाथी आइल बा ? '

' आँय, हाथी ? '

' हँ भइया, हाथी। '

' तब त ऊ दू गो न फैदा लेता ।' 

' भइया, हम त एके फैदा के जानत रहीं, दोसरका तुहीं जानत होइबऽ ?

' हँ दोसरका तूँ जान के का करबऽ ।' 

' आरे हाथी चल गइल हो, आवऽ नीचे आवऽ आ इनिका के चभुकी दे द ।'

पतरेंगा गुर के चरूई के मूँदल मुँह खोल के फैदा लेत रहन। ई बात आउर केहू ना जानल । बस उनुकर भइया जनलन। 

आज के दिन गाँव से ऊख आ कल्हुआड़ सब चल गइल बा रह गइल बा त बस जेहन में चरूई आ घरूई के गुर। 👍


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image