कठपुतली

अनिता मंदिलवार सपना

मैं एक बूँद 

समाहित सागर

तुम ठहरे

मैं हूँ प्रतीक 

तुम विस्तार मेरे

मैं एक भ्रम 

तुम निराकार हो

कठपुतली 

नहीं समझो तुम

कंटक बन 

पाँव में चुभते हो।

कष्टदायक

बन जाता जीवन

निकले आह

पतझड़ नीरस

बन बीहड़ 

वसंत का आगमन 

प्रतीक्षारत

मेरे दोनों नयन

कतरे पंख लिए

विस्मृत मन

सपना की उड़ान

परिधि संकुचित!



Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image