ग़ज़ल

विद्या भूषण मिश्र "भूषण"

ज़िंदगी फिर उलझ गयी सी है!

इक कहानी तिलिस्म की सी है!!

~~~

घट गया ऐतबार अपनों पे,

प्यार में कुछ कमी कमी सी है!!

~~~

लाज आँखों में अब नहीं दिखती,

शर्म बाजार में बिकी सी है!!

~~~

आदमी आदमी नहीं लगता,

उसकी सूरत बदल गयी सी है!!

~~~

हो गया है जहाॅं मसानों सा,

कू-ब-कू मौत नाचती सी है!!

~~~

भूख मिटती न प्यास है बुझती,

जीस्त में खलबली मची सी है!!

~~~

बॅंट गया देश फिर से फिरकों में,

जल रही आग मज़हबी सी है!!

~~~

डूब मंज़र गए मुहब्बत के,

नफ़रतों की बही नदी सी है!!

~~~

*- विद्या भूषण मिश्र "भूषण"-*

~~~~~~~~~~~

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image