दर्द भरोसा टूटने का


पुष्पा गौतम

समय ने क्या खूब सिखाया, कौन अपना है कौन पराया यह खुलकर समझाया l

कौन भरोसा देकर दगा कर गया, जब सामने आया, दो पल को जमीन पैरों तले खिसक गई ए वक्त तूने क्या खूब रंग दिखाया l

 भरोसा किस पर करें, यह दिल अब समझ पाता नहीं l

मिलती हूं सबसे पर वह मुस्कान भी जाने कहां चली गई l

भरोसा ऐसा टूटा जैसे शरीर से जान चली गई l

ऐ वक्त तू ने भी क्या खूब समझाया, कौन अपना है कौन पराया यह खुल कर दिखाया l

 जैसे शीशा टूट कर जुड़ सकता, नहीं वैसे ही कौन कितना भी कहे वह अच्छा है पर अब दिल उससे दोबारा जुड़ सकता नहीं l

गांठ जो पड़ गई है दिल में भरोसा टूटने की, अब कोई कितना भी कहे ,करें, यह दोबारा उससे मिल सकता नहीं l

पुष्पा गौतम

   स्थान - हैदराबाद

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image