माँ दिवस पर एक रचना
राजेश कुमार सिन्हा 

बड़ा सुखद और 

प्यारा था 

माँ तेरा वो 

आलिंगन,,,,,

देता था जो 

हरदम मुझको 

फिर से एक 

नया जीवन,,,,,

जब भी हुई घुटन सी 

मुझको/आता था 

मै/तेरे पास ,,,,

बड़े प्यार से कहती 

थी/ बेटा मत हो   

तू/उदास ,,,

मिल जाता था 

मरहम मुझको 

भर जाते थे 

जख्म मेरे ,,,,,,

जाने कौन सा 

जादू था 

उन शब्दों में 

लिपटा तेरे ,,,,

सुबह सुबह खुलती 

जब आँखें 

बस तेरा ही 

चेहरा होता,,,,

लगे नजर न मुझे 

किसी की /ऐसा 

तेरा पहरा होता,,,,

अभी शेष स्मृतियाँ 

केवल/बंद पड़ी हैं जेहन में 

हो सम्भव तो 

आ जा फिर से 

कर स्वीकार मेरा

आमंत्रण,,,,,

एक बार सिर्फ एक बार 

बस चाहूँ तेरा 

आलिंगन,,,,,,,,


राजेश कुमार सिन्हा 

मुम्बई

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image