इस बार ईद में भी ,ऐसे फासले हुए

 

डाःमलय तिवारी


रस्मो रिवाज़ बन्द ऐसे सिलसिले हुए। 


मजबूरियों से खत्म सारे हौसले हुए। 

मिलना गले तो दूर, मिले हाथ तक नहीं, 

इस बार ईद में भी ,ऐसे फासले हुए।। 

                     2

दूरी बनायेंं लेकिन, दिल में दूरियाँ न हो। 

हालात चाहे जैसे हों, रुसवाइयाँ न हो। 

मुश्किल है दौर यारों, पर जीतेगा आदमीं ही, 

इन्शान क्या, जिसमें कि ऐसी खूबियाँ न हो। 

           राष्ट्र प्रेमी मुस्लिम भाइयों को भाई चारे के पर्व ईदुलफितर की मुबारकबाद।। 

          डाःमलय तिवारी

 बदलापुर जौनपुर

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image