नारी तुम

पद्मा मिश्रा

अगर मैं कहूं‌ तुम्हे

धरती सी उदारमना, उर्वरा

या नीले नभ की विशालता!!

हृदय की तमाम भावनाओं की

एक मुखर आवाज,

या ममता के आंगन में खिला

कोई अनाघ्रात पुष्प!

पावनता की मूर्ति सी,

तब भी नहीं होती पूर्ण तुम्हारी परिभाषा

नारी! तुम केवल अहसास हो!

जीवन के मरूथल में

अनबुझी प्यास नहीं,

जीवन का कोमल अहसास हो,

नारी तुम केवल मन का विश्वास हो,

पद्मा मिश्रा

 जमशेदपुर झारखंड

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image