भजन



 रीमा ठाकुर

जग के रखवाले राम, दुख हरो हमारे श्याम "

दशरथ के तुम हो दुलारे , नन्द बाबा को हो प्यारे! 

तुममे मे ही बसते प्राण, दुख हरो हमारे श्याम!! 


शबरी से नेह लगाया , गोपियों संग रास रचाया, 

सीता के प्राण आधार, राधा के प्रेम प्रकाश!

तुमसे ही मेरी आस, दुख हरो हमारे श्याम!! 


केवट को पार लगाया, द्रोपदी की लाज बचाया.

इस जग के पालनहार, सृष्टि के तारणहार! 

अब सुन लो मेरी पुकार, दुख हरो हमारे श्याम!! 


जग के रखवाले राम, दुख हरो हमारे श्याम!!! 

  रीमा महेंद्र ठाकुर 

लेखिका

   रानापुर झाबुआ मध्यप्रदेश भारत

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image