मेरा हृदय उद्धार

गिरिराज पांडे

 वादियां देखने को प्रकृति की यहां 

मन की खिड़की हमारी खुली चाहिए 

फूल पौधे कली जो सुशोभित यहां


 उसकी खुशबू दिलों में बसी चाहिए

 डूब जाएं सदा उनके भावो में हम 

दिल से दिल का हमेशा मिलन चाहिए 

इस जहां में भरा प्यार ही प्यार हो 

भावना सबके अंदर भरी चाहिए 

खूबसूरत सुहाना जो मौसम लगे 

ऐसे मौसम में तेरा मिलन चाहिए 

जब छलक जाए आंखों से मदिरा यहां 

डूबकर भाव में पीना रस चाहिए 

खूबसूरत यहां तुझको दिख जाएगा

 प्यार से ही भरी एक नजर चाहिए

 बैठ कर के शिखर सब सुशोभित रहे

मन में इच्छा सभी की यही चाहिए 

ना हो चेहरे की रौनक फीकी कभी 

मुस्कुराता सा चेहरा तेरा चाहिए 


गिरिराज पांडे

वीरम ऊ

 प्रतापगढ़

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image